पिछले दस सालो से भाजपा के सिंबल पर हरिद्वार के सांसद रहे डॉ० रमेश पोखरियाल निशंक का टिकट कटने के बाद इस बार लोकसभा प्रत्याशी त्रिवेंद्र सिंह रावत के बैनर से निशंक के फ़ोटो गायब होने की चर्चा आम जनमानस के बीच जोरों पर है। वही सोशल मीडिया पर भी एक दूसरे के समर्थको के बीच जंग छिड़ी हुई है। राजनीतिक पजानकर यह मानकर चल रहे है कि भाजपा के बीच यह बड़े भीतरीघात का संकेत है।

दरअसल, भाजपा केंद्र नेतृत्व ने पिछले दो बार से लगातार लोकसभा का चुनाव जीतने वाले डॉ० रमेश पोखरियाल निशंक का टिकट काटकर इस बार पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेद्र सिंह रावत को चुनावी मैदान में उतारा है । इसी बात की खुशी जाहिर करते हुए उनके समर्थको ने त्रिवेंद्र सिंह रावत को टिकट मिलने पर भाजपा केंद्रीय नेतृत्व का आभार जताते हुए नारसन बॉर्डर से लेकर हरिद्वार तक नेशनल हाईवे पर बड़े-बड़े बैनर होल्डिंग्स आदि लगाए हैं मगर इन बैनर और होल्डिग्स से पूर्व सांसद निशंक का फोटो ही गायब है।

त्रिवेंद्र सिंह रावत के इन बैनरो से निशंक की फोटो 2गायब होने के फोटो देखते ही देखते लोगो के व्हाट्सएप ग्रुपों में वायरल हो गये, जिसकी चर्चा राजनीतिक गलियारा में जोरों पर हो रही है। साथ ही आम जनमानस भी इस मुद्दे पर बात कर रहा है। वहीं राजनीतिक पंडित बता रहे हैं कि इस तरह के कार्य व्यवहार से साफ संकेत मिलता है कि उत्तराखण्ड भाजपा मे जमकर भीतरीघात है, जिसका फायदा उठाने से विपक्ष कतई नहीं चूकेगा।

इस संबंध में कई भाजपा ने नेताओ से बात की गई तो उन्होंने बताया के भाजपा में कतई भी भीतरी घात नहीं है, भाजपा एक अनुशासित पार्टी है केंद्रीय नेतृत्व ने काफी विचार विमर्श के बाद त्रिवेंद्र सिंह रावत को प्रत्याशी घोषित किया है दावा है वे बड़े अंतर से हरिद्वार लोकसभा का चुनाव जीत रहे है।

Share.

गुलशन आजाद, एक युवा पत्रकार है। जो अपराध एवं राजनितिक समेत समायिकी मुद्दो पर बिट करते है, पिछले 4 वर्षों से पत्रकारिता क्षेत्र में अपने योगदान से समाज को जागरूक करने में सक्रिय रहे हैं।

Contact is protected!