हरिद्वार। जिला बाल श्रम टास्क फोर्स (DTF) हरिद्वार द्वारा (6 जून) से बाल एवं किशोर श्रमिकों के रेस्क्यू और चिन्हिकरण के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के दौरान (20 जून 2024 तक कुल 4 बाल श्रमिकों) को रेस्क्यू किया गया है। इन बच्चों को श्रम में संलिप्त कराने वाले नियोजकों के खिलाफ विभाग ने (FIR दर्ज) कराई है।

सहायक श्रम आयुक्त के.के. गुप्ता ने बताया कि यह अभियान (30 जून 2024 तक) जारी रहेगा। रेस्क्यू किए गए बच्चों का शैक्षणिक पुनर्वास सुनिश्चित किया जा रहा है और उनके परिवारों को केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं।

Share.